PURAANIC SUBJECT INDEX

पुराण विषय अनुक्रमणिका

(From vowel i to Udara)

Radha Gupta, Suman Agarwal and Vipin Kumar

Home Page

I - Indu ( words like Ikshu/sugarcane, Ikshwaaku, Idaa, Indiraa, Indu etc.)

Indra - Indra ( Indra)

Indrakeela - Indradhwaja ( words like Indra, Indrajaala, Indrajit, Indradyumna, Indradhanusha/rainbow, Indradhwaja etc.)

Indradhwaja - Indriya (Indradhwaja, Indraprastha, Indrasena, Indraagni, Indraani, Indriya etc. )

Indriya - Isha  (Indriya/senses, Iraa, Iraavati, Ila, Ilaa, Ilvala etc.)

Isha - Ishu (Isha, Isheekaa, Ishu/arrow etc.)

Ishu - Eeshaana (Ishtakaa/brick, Ishtaapuurta, Eesha, Eeshaana etc. )

Eeshaana - Ugra ( Eeshaana, Eeshwara, U, Uktha, Ukhaa , Ugra etc. )

Ugra - Uchchhishta  (Ugra, Ugrashravaa, Ugrasena, Uchchaihshrava, Uchchhista etc. )

Uchchhishta - Utkala (Uchchhishta/left-over, Ujjayini, Utathya, Utkacha, Utkala etc.)

Utkala - Uttara (Utkala, Uttanka, Uttama, Uttara etc.)

Uttara - Utthaana (Uttara, Uttarakuru, Uttaraayana, Uttaana, Uttaanapaada, Utthaana etc.)

Utthaana - Utpaata (Utthaana/stand-up, Utpala/lotus, Utpaata etc.)

Utpaata - Udaya ( Utsava/festival, Udaka/fluid, Udaya/rise etc.)

Udaya - Udara (Udaya/rise, Udayana, Udayasingha, Udara/stomach etc.)

 

 

 

Puraanic contexts of words like Eeshaana, Eeshwara, U, Uktha, Ukhaa , Ugra etc. are given here.

Comments on Eeshwara

 

Preliminary remarks on U

Comments on Uktha

 

Comments on Ugra

ईशावास्यम् भागवत ८.१.१०( स्वायम्भुव मनु द्वारा व्याहृत मन्त्रोपनिषद)

 

ईशिता गणेश २.६३.३८( ईशिता सिद्धि से निर्गत कृत्या द्वारा शुक्र के बन्धन व मोचन का वृत्तान्त )

 

ईश्वर अग्नि १३९.४ (६० अब्दों में से ईश्वर नामक अब्द के फल का उल्लेख : क्षेम , आरोग्य , बहुधान्य आदि ) , कूर्म २.१.१+ ( ईश्वर गीता का आरम्भ ) , देवीभागवत ७.३३.८ ( जीव - ईश्वर विभाजन तथा ईश्वर बहुत्व के पीछे माया कारण होने का कथन ) , ८.२.३२ ( ईशान के सब रुद्रों में ईश्वर होने का उल्लेख ) , नारद १.५६.११६ ( ६० अब्दों / वत्सरों के नामों में से एक ) , १.६३.३३ ( दृक् /ज्ञान शक्ति के तिरोभाव और क्रिया शक्ति की विशेषता वाले तत्त्व का ईश्वर नाम होने का कथन ) , पद्म ४.११.३७ ( ईश्वरी : लक्ष्मी के लिए सम्बोधन ) , ६.८०.९४ ( विष्णु के लिए ईश्वर सम्बोधन ) , ६.२२३.१६ ( लक्ष्मी देवी के लिए ईश्वरी सम्बोधन ), ६.२२६.५९ , ६.२२६.७० (विष्णु के लिए ईश्वर सम्बोधन के औचित्य का वर्णन ), ६.२३२.४६ ( महालक्ष्मी के सर्वभूतों की ईश्वरी होने का उल्लेख ) , ७.११.३२ (कृष्ण के लिए ईश्वर सम्बोधन ) , ब्रह्म २.६९.११ (ईश्वर /ईशान की आराधना से ज्ञान प्राप्त करने का निर्देश ), ब्रह्मवैवर्त्त ३.३९.१६ ( ईश्वरी दुर्गा द्वारा ईशान दिशा की रक्षा ), ब्रह्माण्ड १.२.३२.९७ ( ब्रह्मा के मानस व औरस पुत्रों भृगु , मरीचि , अत्रि आदि सप्तर्षियों की ईश्वर संज्ञा ; ईश्वरी से ऋषियों की उत्पत्ति का उल्लेख ) , ३.४.२.२१७ ( ईश्वर में ज्ञान , वैराग्य , ऐश्वर्य आदि १० गुणों का अधिष्ठान ) , ३.४.२.२३० ( ईश्वर से बृहत् स्वर्णिम अण्ड की उत्पत्ति तथा ईश्वर से प्राप्त बीज के प्रकृति रूपी योनि में विकसित होने का उल्लेख ) , ३.४.२.२३४ ( ब्रह्मलोक तथा ब्रह्मा के अण्ड के बीच दिव्य मनोमय पुर में ईश्वर का स्थान होने का उल्लेख ) , ३.४.३५.९७ ( ईश्वर नामक शिव की ४ कलाओं के नाम ) , ३.४.३९.१२० ( ब्रह्मादि त्रिदेवों के अधिपति ) , भविष्य १.१२२.१५ ( ईश्वर से परे विद्या , विद्या से परे शिव और शिव से परे परमेश्वर के होने का उल्लेख ) , १.१३८.४३ ( ईश्वर / शिव के ध्वज का दण्ड रजतमय तथा पताका शुक्ल होने का उल्लेख ) , ३.४.७.३४ ( धातृशर्मा द्विज का सूर्य आराधना से मोक्ष प्राप्ति के पश्चात् ईश्वर नाम से जन्म ) , ४.४६.१९ ( ईश्वरी : राजा पृथ्वीनाथ की पत्नी , ईश्वरी द्वारा ईर्ष्या से भूषणा सखी के पुत्रों  का वध, पूर्व जन्म वृत्तान्त , सप्तमी व्रत फल प्राप्ति से पुत्रवान होना ) , भागवत १.७.२३ ( प्रकृति से परे स्थित ईश्वर का चित्शक्ति द्वारा माया को दूर करके कैवल्य में स्थित होने आदि का उल्लेख ) , १.८.१८ ( प्रकृति से परे ईश्वर का सब भूतों के अन्दर व बाहर स्थित होते हुए भी अलक्षित रहने का उल्लेख ) , ३.१०.१२ ( काल रूपी ईश्वर द्वारा ब्रह्मतन्मात्र विश्व को परिच्छिन्न करके ९ प्रकार की प्राकृत और वैकृत सृष्टियां करने का वर्णन ) , ३.२९.३४ ( सर्वभूतों में ईश्वर का जीवकला के द्वारा प्रवेश होने का उल्लेख ) , ९.१९.४४(गुणों में आसक्त धी के ईश्वर होने का प्रश्न-उत्तर), १०.८५.२९ ( देवकी द्वारा कृष्ण व बलराम को ईश्वर - द्वय कहना ) , १२.१०.८ ( शिव के सब विद्याओं में ईशान और सब देहधारियों में ईश्वर होने का उल्लेख ) , मत्स्य ९३.१३ ( सूर्य के अधिदेवता ) , १११.५ ( सब भूतों में ईश्वर का दर्शन करने वाले ही वास्तविक दर्शक होने का उल्लेख ) , १४५.९० ( भृगु , मरीचि, अत्रि आदि ब्रह्मा के १० मानस पुत्रों की ईश्वर संज्ञा ; ईश्वर शब्द के परत्व से ऋषि शब्द की निरुक्ति  ? ), २१८.२७ ( ईश्वरी : महा ओषधियों में से एक का नाम ) , महाभारत शान्ति ३०६.४१(अव्यक्त क्षेत्र का नाम), वायु ४.४० ( ईश्वर निरुक्ति : लोकों का सर्वेशत्व ) , ५.१८ ( ब्रह्मा , विष्णु व महेश के रज , सत्त्व व तमोगुणों से सम्बन्धित होने के संदर्भ में ईश्वर के पर:देव तथा विष्णु के महत: पर: देव होने का कथन ) , ५९.८१ ( ब्रह्मा के मानस पुत्रों / ऋषियों की ईश्वर संज्ञा ) , ५९.८९ ( ईश्वरों के ऋषि पुत्रों काव्य , बृहस्पति, कश्यप आदि के नाम ) , १०१.२१६ ( ईश्वर में १० गुणों की स्थिति ) , शिव १.१७.१०७ ( पांच चक्रों वाले कालचक्र के वर्णन के अन्तर्गत ईश्वर चक्र की भ्रमण प्रकृति का उल्लेख ) , ६.१५.४ ( ईश्वर के ईश , विश्वेश्वर , परमेश व सर्वेश्वर नामक चार रूप कथन ) , ७.३०.५२ ( कर्म के पीछे कारण के ईश्वरकारित होने का कथन ), ७.२.५.१५( ईश्वर के जाति - व्यक्ति स्वरूप का कथन ), स्कन्द १.१.३.८१ ( दक्ष यज्ञ प्रसंग में विष्णु के यज्ञ कर्मों के पालक होने तथा ईश्वर / शिव द्वारा कर्मों में सामर्थ्य प्रदान करने का कथन ; ईश्वर रहित कर्म से नरक प्राप्त होने का कथन ) ,१.२.२५.११९ ( ईश्वर के सब भूतों के पति होने का उल्लेख ) , ४.२.८७.८९ ( दक्ष यज्ञ में दधीचि ऋषि द्वारा दक्ष को ईश्वर महिमा का कथन : कर्म की सिद्धि में ईश्वर अनुग्रह की अनिवार्यता ) , ५.१.७०.३१ ,५.१.७०.५३  ( महाकालवन में प्रतिष्ठित अगस्त्येश्वर आदि ८४ ईश्वरों के नाम ) , ५.३.४१.१० ( ईश्वरी : कुबेर - भार्या ईश्वरी का उल्लेख ) , ६.२४८.११ ( पलाश वृक्ष के विभिन्न अंगों में शिव की विभिन्न नामों से प्रतिष्ठा : प्रशाखाओं में ईश्वर नामक शिव की प्रतिष्ठा ) , ७.१.३.११६++ ( ईश्वर द्वारा पार्वती को प्रभास क्षेत्र माहात्म्य का वर्णन ) , ७.२.९.८१ ( दधीचि ऋषि द्वारा दक्ष यज्ञ में दक्ष को ईश्वर महिमा का कथन ) , ७.४.१७.११( द्वारका के पूर्व आदि विभिन्न द्वारों पर स्थित ईश्वरों के नाम : दुर्वासा , भूषण आदि ) , लक्ष्मीनारायण २.२५२.३० ( ब्रह्मलोक मूर्द्धा , ईश्वर लोक हृदयादि, जीवलोक चरणद्वय ), कथासरित् १०.१.५५ ( ईश्वरवर्मा : रत्नवर्मा - पुत्र , वेश्या कर्म में धन नष्ट होने पर आल नामक वानर की सहायता से धन की पुन: प्राप्ति कथा )  Eeshwara/ ishwara

Comments on Eeshwara

 

ईषादण्ड स्कन्द ४.२.८८.६० ( पार्वती रथ में नर्मदा व अलकनन्दा का ईषादण्ड बनना )

उ अग्नि १२४.६ ( मूल ब्रह्म संज्ञक अ इ उ ए ओ तथा कला की व्याख्या : उकार का हृदय में नाद संज्ञक होना ) , ३४८.२ ( शिव के अर्थ में उ का प्रयोग ), नारद १.३३.१५५ ( अ, उ तथा म के क्रमश: ब्रह्मा , विष्णु और रुद्र रूप होने का उल्लेख ), २.५०.३९ ( अकार के विष्णुलोक गति - प्रद होने , उकार के स्थान पर बृहस्पति द्वारा सिद्धि प्राप्त करने और विष्णु संज्ञक मकार लिङ्ग में कपिल ऋषि द्वारा सिद्धि प्राप्त करने का उल्लेख ) , पद्म ६.२२६.२३ ( ॐ नमो नारायणाय मन्त्र के संदर्भ में अकार के विष्णु , उकार के श्री तथा मकार के पञ्चविंश जीव होने का उल्लेख ) , लिङ्ग १.९१.५४ ( अकार, उकार व मकार का क्रमश: भू , भुव: व स्व: लोकों से तादात्म्य ) , वायु २०.८ ( अकार के अक्षर , उकार के स्वरित और मकार के प्लुत होने का उल्लेख : अकार से भूलोक, उकार से भुव: और मकार से स्वर्लोक का निर्देश ) , शिव १.१०.१८ ( ओंकार की अ मात्रा की शिव के उत्तर मुख से , उकार की पश्चिम व मकार की दक्षिण मुख आदि से उत्पत्ति का उल्लेख ) , १.१६.११४ ( लिङ्गों की प्रकृति के संदर्भ में उकार के चर लिङ्ग तथा अकार के गुरु विग्रह से सम्बन्ध आदि का उल्लेख ) , १.२४.९१( त्रिपुण्ड्र की तीन रेखाओं के संदर्भ में अकार के गार्हपत्य अग्नि आदि , उकार के दक्षिणाग्नि , यजुर्वेद , नभस्तत्त्व , माध्यंदिन सवन , इच्छाशक्ति आदि से सम्बन्ध का उल्लेख ) , २.१.८.१९ ( अकार की सर्गकर्ता , उकार की मोहक व मकार की अनुग्रह कारक प्रकृति का उल्लेख ; अकार के बीज , उकार के हरि योनि तथा मकार के बीजी होने का उल्लेख ) , २.१.८.३३ ( वर्णों के न्यास के संदर्भ में उकार का दक्षिण श्रोत्र में न्यास ) , ६.३.२१ ( अकार के महद्बीज , रजोगुण , ब्रह्मा द्वारा सृष्ट , उकार के प्रकृति योनि, सत्त्वगुणात्मक, हरि द्वारा पालित तथा मकार के बीजी , तमोगुणात्मक ,संहारक हर आदि से सम्बन्धित होने आदि का उल्लेख ) , ६.३.२७ (अकार की ८ कलाओं व सद्योजात शिव से सम्बन्ध होने, उकार की १३ कलाओं तथा वामदेव शिव से सम्बन्ध होने आदि का उल्लेख ) , ६.६.६२ ( अकार के बीज , उकार के शक्ति तथा मकार के कीलक होने का उल्लेख ) , ६.६.६६ ( ब्रह्मा रूपी अकार का हृदय में , उकार का विष्णु सहित शिरोदेश में तथा रुद्र सहित मकार का शिखा में न्यास करने का उल्लेख ) , ७.१.७.२८ ( अकार , उकार , मकार आदि की बीज , योनि , बीजी आदि प्रकृतियों का उल्लेख ) , ७.१.२२.२४ ( वर्णमाला न्यास के संदर्भ में उकार का श्रवण में न्यास करने का निर्देश ) , ७.२.६.२८ ( ओंकार में उ के प्रकृति योनि , सत्त्व गुण व पालक हरि होने का कथन ) , स्कन्द १.२.५.६८ ( अकार , उकार व मकार की क्रमश: ब्रह्मा , विष्णु व रुद्र संज्ञा ; अकार से लेकर अ: कार तक १४ स्वरों का स्वायंभुव आदि १४ मनुओं से तादात्म्य ), ३.३.१६.४५ ( त्रिपुण्ड्र की तीन रेखाओं के संदर्भ में प्रत्येक रेखा के ९ देवताओं का कथन ; , उ तथा म का तीन रेखाओं के तीन देवताओं के रूप में उल्लेख ) , ४.२.७३.८३ ( शब्द सुनकर समाधि से जागने पर ब्रह्मा द्वारा सत्त्वगुणी अकार , रजोगुणी उकार तथा तमोगुणी मकार का दर्शन करना ) , ५.३.४.३४ ( ब्रह्मा से उत्पन्न उकार अग्नि का गुरु ध्यान में आश्रय लेना , ब्रह्मा द्वारा उकार को चक्षु व वाक् में स्थान देना आदि ) , ५.१.४.४९ ( उकार अग्नि का सूर्य से एकाकार होना ; ब्रह्मा के पंचम शिर का रूप  ) U

Comments on U

 

उक्ति अग्नि ३४२.२७ ( उक्ति शब्द की व्याख्या )

 

उक्थ अग्नि २७१.७ ( उक्था : वेद , आरण्यक , उक्था व ऊह नामक सामगान के ४ प्रकारों में से एक ) , ब्रह्म १.६.९२ ( उक्थ / उक्य? : शल - पुत्र , वज्रनाभ - पिता, राम वंश ) , ब्रह्माण्ड १.२.८.५१ ( उक्त/उक्थ ? आदि की ब्रह्मा के दक्षिण मुख से उत्पत्ति का उल्लेख ), भागवत १.१५.६ ( उक्थ प्राण से रहित होने पर मृत कहलाने का उल्लेख ) , ३.१२.४० ( उक्थ , षोडशी आदि यागों की ब्रह्मा के पूर्व मुख से उत्पत्ति का उल्लेख ) , ११.२१.२८ ( उक्थ शस्त्रों से असु की तृप्ति कर लेने से ही हृदय में स्थित परमात्म का ज्ञान न होने का उल्लेख ) , वायु ९.४५ (उक्थ आदि की ब्रह्मा के दक्षिण मुख से उत्पत्ति का उल्लेख ) , वा.रामायण १.१४.४१( उक्थ्य : अश्वमेध यज्ञ के तीन सवनीय दिनों में से एक का नाम ) , विष्णु १.५.५४ ( उक्थ आदि की ब्रह्मा के दक्षिण मुख से उत्पत्ति का कथन ), हरिवंश १.१५.३१( अनल - पुत्र , वज्रनाभ - पिता , राम वंश ) , महाभारत वनपर्व २१९.२५( तीन उक्थों द्वारा अभिष्टुत होने वाली उक्थ  नामक अग्नि द्वारा महावाक् को उत्पन्न करने का कथन ), अथर्व ५.२६.३(इन्द्र उक्थामदानि अस्मिन् यज्ञे), द्र. बृहदुक्थ Uktha

Comments on Uktha

 

उक्षा विष्णु धर्मोत्तर ३.३०६.३३ ( इन्द्रियोपेत उक्षा का द्विजाति हेतु दान का फल कथन ) , स्कन्द ४.१.२९.३० ( गंगा सहस्रनामों में से एक ,शाब्दिक अर्थ फल सेक ) ,७.१.१७.१५२ ( रवि की पूजा में उक्षाणं पृश्निमिति ऋचा के विनियोग का उल्लेख ) , महाभारत वन १९७.१५ ( राजा शिबि द्वारा श्येन को कपोत के बदले उक्षा मांस को ओदन सहित पकाकर प्रस्तुत करने का प्रस्ताव), द्रोण १४.६१ ( अभिमन्यु द्वारा राजा पौरव की पराभव की उपमा सिंह द्वारा उक्षा की पराभव से करना )  Ukshaa

Comments on Ukshaa

 

उखल अग्नि ७७.१७( उखल पूजा मन्त्र ) , भागवत १०.९.१४ ( कृष्ण का उलूखल से बंधना , दाम / रस्सी का २ अंगुल ह्रस्व होना ,यमलार्जुन का उद्धार ), द्र.उलूखल, मूसल , यमलार्जुन Ukhala

 

उखा महाभारत शान्ति ३१५.१५ ( उपमा : उखा के स्पर्श से अग्नि के दूषित न होने का कथन )  Ukhaa

 

उग्र नारद १.५६.४५० ( गण्डान्त सन्धित्रितय के उग्र होने का उल्लेख ) , १.५८.४१ ( व्यास - पुत्र शुक्र द्वारा उग्र तप आरम्भ करने का उल्लेख ) , पद्म २.५.१०८ ( अदिति व कश्यप - पुत्र वसुदत्त इन्द्र के उग्र तेज से युक्त होकर उग्र तप करने का उल्लेख ) , ब्रह्म १.११५.२३ ( उग्र अन्न के गर्हित होने का उल्लेख ) , ब्रह्माण्ड १.२.१०.१६, १.२.१०.८३ ( उग्र रुद्र : दीक्षा - पति , सन्तान - पिता ) २.३.५.९४ ( मरुतों के तृतीय गण में से एक का नाम ) , २.३.७.९२ ( विक्रान्त - पिता ) , ३.४.३४.४१ ( १३ वें आवरण में स्थित रुद्रों में से एक , शतरुद्रिय प्रसंग ) , भागवत ६.६.१७ (  भूत व सरूपा - पुत्र , एकादश रुद्रों में से एक ) , मत्स्य २६५.४१( यजमान नामक देव मूर्ति के रक्षक ), मार्कण्डेय ७६.४७ / ७३.४७ ( चाक्षुष मनु की पत्नी विदर्भा के पिता का नाम ) , लिङ्ग १.२४.५३ ( ११ वें द्वापर में मुनि , लम्बोदर आदि चार पुत्रों के नाम ) , १.९५.३६ ( शिव के सब भूतों में उग्र होने का उल्लेख ) , १.९५.५५ ( शिव के सब दुष्टों में उग्र होने का उल्लेख ) , २.१३.१७ ( उग्र और ईशान शिव में समानता का उल्लेख ; उग्र देव की दीक्षा पत्नी और सन्तान पुत्र का उल्लेख ) , २.१३.२७ ( शिव का नाम, आत्मा / यजमान का रूप ) , २.४५.४२ ( भव , शर्व आदि अष्ट मूर्तियों के तत्त्वों के संदर्भ में उग्र शिव से वायु तथा त्वचा में स्पर्श की रक्षा की प्रार्थना ), वायु २३.१५२ ( ११ वें द्वापर में विष्णु के अवतार की संज्ञा , लम्बोदर आदि ४ पुत्रों के नाम ) , २७.१५ ( ब्रह्मा के चिन्तन से उत्पन्न कुमार नीललोहित द्वारा प्राप्त एक नाम ) , २७.५५ ( उग्र नामक रुद्र की दीक्षा पत्नी व सन्तान पुत्र ) , ६७.१२६ ( मरुतों के सात गणों में से तीसरे गण का एक नाम ) , विष्णु १.८.६ ( ब्रह्मा के मालम पुत्र रुद्र का एक नाम , ब्रह्मा द्वारा उग्र के स्थान, स्त्री व पुत्र का निर्धारण ) , विष्णु धर्मोत्तर ३.९६.९७ ( फलित ज्योतिष के संदर्भ में सूर्य होरा में उग्र कर्म तथा सौम्य होरा में सौम्य कर्म करने का निर्देश ) , शिव ४.३५.१२ ( शिव के सहस्रनामों में से एक ) , ५.३४.८७ ( अनूग्र : १४ वें मन्वन्तर में मनु - पुत्रों में से एक ) , ७.१.१२.४३ ( भव , शर्व आदि मूर्तियों के तत्त्वों के कथन के संदर्भ में ईश के स्पर्शमय होने और उग्र के यजमानात्मक होने का उल्लेख ) , स्कन्द १.२.१३.१७९ ( शतरुद्रिय प्रसंग में दैत्यों द्वारा शिव के राजिक लिंग की उग्र नाम से पूजा का उल्लेख ) , ४.२.६९.९८ ( उग्रेश्वर लिङ्ग का संक्षिप्त माहात्म्य :उपसर्ग नाशक ), ४.२.७२.९७ (६४ वेतालों में से एक ), ४.२.९७.११३ ( उग्रेश्वर लिङ्ग का संक्षिप्त माहात्म्य : जाति स्मरण ) , ७.१.२५५.४२ ( राजा वृषादर्भि द्वारा ऋषियों को हेमपूर्ण उदुम्बर दान करने के प्रयास के संदर्भ में चण्ड व ऋषियों द्वारा उग्र प्रतिग्रह से डरने का कथन ), लक्ष्मीनारायण १.३२१.११५( शूद्र द्वारा तृषित उग्रदेव द्विज को संतुष्ट करने पर उग्रदेव द्वारा दारिद्र्य नाश के उपाय का कथन : अधिक मास में दीप दान )  Ugra

Comments on Ugra