PURAANIC SUBJECT INDEX

पुराण विषय अनुक्रमणिका

(From vowel i to Udara)

Radha Gupta, Suman Agarwal and Vipin Kumar

Home Page

I - Indu ( words like Ikshu/sugarcane, Ikshwaaku, Idaa, Indiraa, Indu etc.)

Indra - Indra ( Indra)

Indrakeela - Indradhwaja ( words like Indra, Indrajaala, Indrajit, Indradyumna, Indradhanusha/rainbow, Indradhwaja etc.)

Indradhwaja - Indriya (Indradhwaja, Indraprastha, Indrasena, Indraagni, Indraani, Indriya etc. )

Indriya - Isha  (Indriya/senses, Iraa, Iraavati, Ila, Ilaa, Ilvala etc.)

Isha - Ishu (Isha, Isheekaa, Ishu/arrow etc.)

Ishu - Eeshaana (Ishtakaa/brick, Ishtaapuurta, Eesha, Eeshaana etc. )

Eeshaana - Ugra ( Eeshaana, Eeshwara, U, Uktha, Ukhaa , Ugra etc. )

Ugra - Uchchhishta  (Ugra, Ugrashravaa, Ugrasena, Uchchaihshrava, Uchchhista etc. )

Uchchhishta - Utkala (Uchchhishta/left-over, Ujjayini, Utathya, Utkacha, Utkala etc.)

Utkala - Uttara (Utkala, Uttanka, Uttama, Uttara etc.)

Uttara - Utthaana (Uttara, Uttarakuru, Uttaraayana, Uttaana, Uttaanapaada, Utthaana etc.)

Utthaana - Utpaata (Utthaana/stand-up, Utpala/lotus, Utpaata etc.)

Utpaata - Udaya ( Utsava/festival, Udaka/fluid, Udaya/rise etc.)

Udaya - Udara (Udaya/rise, Udayana, Udayasingha, Udara/stomach etc.)

 

 

 

There is no website at present giving detailed stories about Uchchaihshravaa, the divine horse.

There is mention of the word Uchchaihshravaa in vedic literature only at one or two places, but the word shravah has been used widely and one has to guess the nature of Uchchaihshravaa from these verses only. There is mention of hearing of Um. It can be said that the extension of hearing of this Um at the lower levels of human being is the Uchchaihshravaa, which may literally mean the hearing with the aid of higher. There is a word vaaja which has generally appeared along with shrava. One can roughly guess that this vaaja may be the vaak, the voice of inner soul. It can be said that the attainment of vaaja is through single handed penances while the attainment of shrava is the result of collective penances. There is also the question how one can allow vaaja to descend on all the levels of human being and then converted into shrava? Puraanic texts answer this question by the manifestation of divine horse Uchchaihshravaa by churning of the ocean. It is strange that in vedic literature, there are mention of churning of fire, not of ocean. There is a mention of kindling of fire in one vedic verse. How fire can be kindled?  Fire is very fond of clarified butter. Therefore, whenever there is the possibility of generation of butter in yaaga, fire is kindled. It has been mentioned that wherever Ilaa puts her feet, butter is generated. In Sanskrit, foot also means level higher or lower. These levels seem to have been given the name of ocean in vedic literature.

          It is important to note that pure shrava, the divine hearing power can not be attained all of a sudden. First, demons get hold of Uchchaihshravaa which appeared by churning of ocean. In the story of serpents turning the white Uchchaihshravaa horse into black by overlapping it, it may be symbolic of  sucking out of the poison from the divine horse. The other explanation of this story can be tried on the basis of a mention of non-decaying shrava. The emergence of rays from the body of Uchchaihshravaa is symbolic of decay of shrava which has to be stopped.

 

टिप्पणी : वैदिक साहित्य में उच्चैःश्रवा शब्द का उल्लेख एक - दो स्थानों पर ही हुआ है , लेकिन श्रव शब्द का उपयोग ऋग्वेद आदि की ऋचाओं में व्यापक स्तर पर किया गया है और इन्हीं ऋचाओं से उच्चैःश्रवा की प्रकृति का अनुमान लगाना है । ऋग्वेद १.१५६.२ तथा १.६१.५ आदि में ॐ श्रवण का उल्लेख है । यह कहा जा सकता है कि इस ॐ श्रवण का मानव व्यक्तित्व के सभी निचले स्तरों पर विस्तार करना ही उच्च द्वारा श्रवण ( उच्चैःश्रवा ) है । ऋग्वेद की ऋचाओं में श्रव के साथ प्रायः वाज शब्द का भी उल्लेख आया है । वाज को मोटे रूप में वाक् कहा जा सकता है । प्रचलित भाषा में आवाज शब्द भी यही वाज, अन्तरात्मा की आवाज हो सकता है । ऋग्वेद ९.१.४, ९.६.३ , ९.५.१५ आदि में ' अभि वाजं उत श्रव:' में अभि प्रत्यय के उल्लेख से प्रतीत होता है कि वाज की प्राप्ति एकान्तिक साधना के फलस्वरूप होती है , जबकि श्रव साधना का बृहत् रूप है । ऋग्वेद की ऋचाओं में श्रव के साथ बृहत् और महि आदि विशेषणों का प्रचुरता से प्रयोग हुआ है । प्रश्न यह है कि इस श्रव की प्राप्ति कैसे की जा सकती है ? अथवा वाज का अपने व्यक्तित्व के सभी स्तरों पर अवतरण कराकर उसे कैसे श्रव नामक मूर्त्त रूप दिया जा सकता है ? पुराणों में इसका उत्तर समुद्र मन्थन द्वारा उच्चैःश्रवा अश्व को प्रकट करने के माध्यम से दिया गया है । कर्मकाण्ड में प्रायः अरणि मन्थन द्वारा गार्हपत्य अग्नि को प्रकट करने के वर्णन आते हैं , समुद्र मन्थन के नहीं । ऋग्वेद १.१२८.१ ( सायण भाष्य ) तथा २.१०.१ में यजमान द्वारा मन्थन के द्वारा इडस्पद में अग्नि को समिद्ध करने का उल्लेख है । इडस्पद में समिद्ध यह अग्नि श्रवस्य और वाजी है । इला शब्द की टिप्पणी में इडस्पद की प्रकृति का वर्णन करते हुए यह स्पष्ट किया गया है कि यह इडस्पद कर्मकाण्ड में आहवनीय अग्नि से ऊपर स्थित उत्तरवेदी का स्थान हो सकता है । यह इडा के पदों का प्रतीक हो सकता है । इडा जहां - जहां अपने पद रखती है , वहीं - वहीं घृत उत्पन्न हो जाता है , और अग्नि को घृत बहुत प्रिय है । घृत पाते ही वह समिद्ध हो जाती है । यह इडस्पद आनन्द का स्थान है जिसे पुराणों में समुद्र / समुद कहा गया है । लेकिन महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि शुद्ध श्रव की प्राप्ति एक दम नहीं हो जाती , पहले उच्चैःश्रवा की प्राप्ति असुरों को होती है । ऋग्वेद ८.१०३.५ , ९.६६.१० तथा ९.९७.२५ आदि में संभवतः अर्वा / अश्व का उल्लेख इसी स्थिति की ओर इंगित करता है । उसके पश्चात वह इन्द्र को प्राप्त होता है । हो सकता है कि ऋग्वेद १.७३.७, १.९१.१८ , १.१२५.२ तथा ५.३५.८ में श्रव को द्युलोक / दिवि में रखने का जो उल्लेख है , उसकी व्याख्या पुराणों में उच्चैःश्रवा के इन्द्र को प्राप्त होने के तथ्य से की गई हो । पुराणों में विनता - कद्रू के सार्वत्रिक आख्यान से मिलता - जुलता आख्यान शतपथ ब्राह्मण ३.६.२.२ में भी वर्णित है । वहां विनता के स्थान पर सुपर्णी वाक् का नाम लिया गया है तथा श्वेत अश्व को अग्नि कहा गया है । पुराणों में वर्णित आख्यान में सर्पों द्वारा उच्चैश्रवा अश्व के बालों / रोमकूपों में प्रवेश करके उसे कृष्ण बनाने के संदर्भ में , ऋग्वेद ९.८७.५ व ९.१०८.५ आदि में सोम को अवि के बालों से बनी पवित्र नामक छलनी से छानने का उल्लेख आता है जिससे छनकर सोम इस प्रकार निकलता है जैसे संग्राम में श्रव करते हुए अश्व । यह संभव है कि पुराणों में सर्पों द्वारा अश्व के बालों में प्रवेश करने से तात्पर्य उसके विष को चूस कर उसे शुद्ध करना हो , जैसे पवित्र नामक छलनी सोम को करती है । बाल / वाल बिखरी हुई ऊर्जा का प्रतीक हैं । सर्पों द्वारा उच्चैःश्रवा को कृष्ण बना देने के तथ्य की व्याख्या का दूसरा प्रयास ऋग्वेद ८.१०३.५ तथा ९.६६.७ आदि में अक्षिति श्रव के उल्लेख के आधार पर किया जा सकता है । उच्चैःश्रवा के शरीर से रश्मियों का निकलना श्रव के क्षय का प्रतीक हो सकता है जिसे समाप्त करना है ।

          प्रश्न यह है कि उच्चैःश्रवा अश्व को श्वेत क्यों कहा गयाहै ? ऋग्वेद ९.१००.८ आदि में पवमान ( छनते हुए सोम ) द्वारा चित्र रश्मियों द्वारा महि श्रव प्राप्त करने व तमस् का नाश करने का उल्लेख है । वैदिक साहित्य में ज्योति की उत्पत्ति प्रायः अग्नि और सोम के मिलन से कही जाती है । अग्नि की गति ऊपर की ओर होती है तथा सोम की नीचे की ओर । इसी प्रक्रिया से श्रव का उत्पन्न होना भी संभव प्रतीत होता है । वैदिक निघण्टु में श्रव का वर्गीकरण अन्न व धन नामों के अन्तर्गत किया गया है । अतः यह कहा जा सकता है कि श्रव सोम का ही एक रूप है । इस श्रव की चित्र रश्मियों का पान सर्प ऊर्जा द्वारा किए जाने तथा उच्चैःश्रवा के श्वेत से कृष्ण होने के संदर्भ में ऋग्वेद १.७३.७ में उल्लेख आता है कि कृष्ण वर्ण को अरुण वर्ण में रूपांतरित करने की युक्ति अग्नि के पास है । पुराणों के कद्रू - विनता आख्यान में विनता का पुत्र गरुड / श्येन ऊपर उडकर स्वर्ग में जाता है और वहां से सोम लाता है जिससे विनता को कद्रू के दासीत्व से मुक्ति मिलती है । इस आख्यान में ऊर्जा द्वारा श्येन का रूप धारण करना सर्प ऊर्जा के अतिक्रमण का ही प्रतीक है । सर्प ऊर्जा केवल सर्पण कर सकती है , ऊपर नहीं उड सकती । हो सकता है कि ऋग्वेद ५.७.९ में जिस आसुत सर्पि घृत के अग्नि को प्रस्तुत करने से श्रव आदि प्राप्त करने का उल्लेख है , वह सर्प ऊर्जा का उच्चतर रूप हो । ऋग्वेद ४.२६.५ तथा ६.४६.१३ में श्येन द्वारा श्रव को प्राप्त करने का उल्लेख है ।

          ऋग्वेद ५.३५.८ , ८.१३.१२ तथा १०.१४०.१ आदि बहुत सी ऋचाओं में श्रव के साथ - साथ शव शब्द का भी उल्लेख आया है । इन्द्र को शविष्ठ कहा गया है । हो सकता है कि शव जैसी निष्क्रिय अवस्था प्राप्त करने पर ही श्रव की प्राप्ति होती हो ।

          पुराणों में सूर्य के रथ के वाहक उच्चैःश्रवा अश्व के संदर्भ में ऋग्वेद ४.३१.१५ , ५.८६.६ , ७.८१.६ ,८.१३.१२ , ८.४६.२४ , ८.१०१.१२ तथा ९.९८.८ आदि में सूरि में बृहद् , वर्षिष्ठ श्रव आदि होने के उल्लेख आते हैं । श्रव के साथ बृहद् विशेषण का ऋग्वेद की ऋचाओं में व्यापक रूप से उपयोग किया गया है । चूंकि सूर्य के रथ का निरूपण भी बृहती छन्द द्वारा किया जाता है , अतः ऐसा हो सकता है कि श्रव का बृहद् रूप विशेष रूप से सूरि / सूर्य अवस्था में रथ के द्वारा गतिशीलता आने पर ही प्राप्त होता हो ।

          कथा सरित्साiगर में नमुचि असुर ( न मुञ्चति इति , हर्ष जो एक बार प्राप्त होकर समाप्त ही नहीं होता ) द्वारा उच्चैःश्रवा की प्राप्ति के सन्दर्भ में ऋग्वेद ६.१०.५ तथा ७.८१.५ आदि में श्रव के साथ चित्र राध का उल्लेख विचारणीय है ।

          देवीभागवत पुराण में सूर्य - पुत्र रेवन्त द्वारा उच्चैःश्रवा पर आरूढ होकर विष्णु के पास जाने के तथ्य के संदर्भ में ऋग्वेद १.९५.११ तथा १०.६९.३ में रेवत पावक के श्रव द्वारा विभूषित होने आदि का कथन विचारणीय है ।

 

उच्चैःश्रवा (अनुद्धृत अंश)

१ अग्ने तव श्रवो वयो-ऋग्वेद १०१४०१

२ धीभिरर्वद्भिरर्वतो वाजां इन्द्र श्रवाय्यान् । त्वया जेष्म हितं धनम् ।  ऋ ६.४५.१२

३ वाज को गोमन्त कहना - ऋ ३.२०.२व३

. श्रव के साथ रयि का उल्लेख- ऋ१.१२८., .८६., .., .१३.१२, .६३.१२ ५. वाजयु श्रवः- . .८०.

६ श्रव के साथ द्युम्न का उल्लेख- . .., .३७.१०, .५९., .., .., ..३२, .७४., .८०.

. ससर्परी वाक् व श्रव- . .५३.१५, १६

८ सोम राजा के लिए पवित्र रथ आदि- . .८३., .८६.४०

. पृथु श्रवः- . .., .., .४६.२१, २४

१० वाज और वाजी, गो, श्रव आदि- . .५२.

११ पवमान द्वारा महि श्रव, गौ व अश्व का रासन करना-..

१२ अभि वाजं सप्तिरिव श्रवस्य- . .९६.१६ १३ श्रव द्वारा अक्षित जनपान का उत्स देना- . .११०.

१४. उषा का श्रव के लिट् उदित होना- . १०.३५.

१५गोमत व वाजवत श्रव- . ..

१६ अश्विनौ द्वारा ३ श्रव देना- . .३४.

१७. महि श्रव- . .४३.

१८. ॐ सप्ति की भांति श्रव- . .६१.

१९ अमर्त्यों मे श्रव हेतु ऋभवो द्वारा एक पात्र के चार करना- . .११०.

२० आशु अश्व- . .११७.

२१ पूषा के वाहन अजाश्व से श्रव करने की प्रार्थना- . . १३८.

२२ श्रव के साथ इष- . .१६५.१२ ४.४०.. .., .६५.

२३. मरुतो का श्रवस्यु रथ- . .५६.

२४ उरुगाय श्रव- . .६५.

२५. जैत्र श्रवस्य- . .१५.

२६. पृतनासु श्रवोजितम्- ..३२.१४

२७. वाजासः श्रवस्यवः- . ..

२८. कोकिल सौत्रामणी. श्रवस इति स्थाने जित्या इति क्षत्रियस्य पुष्ट्या इति वैश्यस्येत्येके । (संश्रवसे विश्रवसे सत्यश्रवसे श्रवस इति चत्वारि निधनानि- द्राह्यायण श्रौ.सू. १३..१३

२९. संश्रवसे विश्रवसे सत्यश्रवसे इति सर्वे निधनमुपयन्ति । संजित्यै विजित्यै सत्यजित्यै जित्या इति क्षत्रियस्य । सम्पुष्ट्यै विपुष्ट्यै सत्यपुष्ट्यै पुष्ट्या इति

वैश्यस्य । यथाम्नातं वा सर्वेषाम् (.ब्रा.१२... )- कात्यायन श्रौ.सू. १९..

३०. पुत्रकामेष्ट्यामग्निः पुत्री । यस्मै त्वं सुकृते जातवेदो यस्त्वा हृदा कीरिणा मन्यमानः । अग्निस्तुविश्रवस्तममिति द्वे संयाज्ये ।- आश्वलायन श्रौ.सू. .१०.

३१ उद्भारि खण्डिक तथा दार्भ्य केशी के विवाद में केशी की पराजय । केशी का उच्चैःश्रवस कौवयेय कौरव्य राजा मातुल के पास जाना ----ज्योति अग्निष्टोम, ज्योति उक्थ, ज्योति अतिरात्र से ब्रह्मवर्चस कामी यजन करता है । सप्तदश अग्निष्टोम आदि से प्रजननकामी तथा एकविंश अग्निष्टोम आदि से स्वर्गकामी- जै.ब्रा..२७९-२८०

३२. अर्वन्तो न श्रवस्यवः । सोमासो राये अक्रमुः । इति प्रायणीय रूपम् एवैतद् उपगच्छन्ति । प्रायणीयं हि एतद् अहः ।- जै.ब्रा. .१७५

३३ अभीमं महिना दिवं । मित्रो बभूव सप्रथाः । उत श्रवसा पृथिवीम् । मित्रस्य चर्षणीधृतः । श्रवो देवस्य सानसिम्। द्युम्नं चित्रश्रवस्तमम् । तैत्तिरीय आरण्यक ४..

३४. उदु ब्रह्माण्यैरत श्रवस्या (. .२३., अथर्व २०.१२.) -इति विश्वामित्रः- गोपथ ब्रा...

३५. उदु ब्रह्माण्यैरत श्रवस्या इति ब्राह्मणाच्छंसी । ब्रह्मण्वदेतत्सूक्तं समृद्धम्- गोपथ ब्रा. ..

३६ उदु ब्रह्माण्यैरत श्रवस्या इति पर्यासः । गो.ब्रा. ..

३७. संश्रवसे विश्रवसे सत्यश्रवसे श्रवस इति- गो.ब्रा. ..

३८ यो जातमस्य महतो महि ब्रवात् । सेदुः श्रवोभिर्युज्यंचिदभ्यसत्। तै.ब्रा. ...

३९ पदं देवस्य नमसा वियन्तः । श्रवस्यवः श्रव आपन्नमृक्तम्। नामानि चिद्दधिरे यज्ञियानि । भद्रायां ते रणयन्त संदृष्टौ । ।- तै.ब्रा. . . १०.

४० श्रवण नक्षत्र. त्रेधा विष्णुरुरुगायो विचक्रमे । महीं दिवं पृथिवीमन्तरिक्षम् । तच्छ्रोणैति श्रव इच्छमाना । पुण्यं श्लोकं यजमानाय कृण्वती । । - तैब्रा. ...

४१ हवि की पुरोनुवाक्याः अस्य श्रवो नद्यः सप्त बिभ्रति । द्यावा क्षामा पृथिवी दर्शतं वपुः ।---- तै.ब्रा. ...

४२ आदित्य ग्रह की तीन पुरोरुचाओ में द्वितीय. त्वे अग्ने सुमतिं भिक्षमाणाः । दिवि श्रवो दधिरे यज्ञियासः । नक्ता च चकुरुषसा विरूपे । कृष्णं च वर्णं अरुणं च संधुः ।  तै.ब्रा.. .१२.

४३ नाराशंसी ऋचाः ये मे पंचाशतं ददुः । अश्वानां सधस्तुतिः । द्युमदग्ने महि श्रवः । बृहत्कृधि मघोनाम्। नृवदमृत नृणाम्।  तै.ब्रा.. ..

४४. यास्ते पूषन्नावो अन्तः समुद्रे । हिरण्ययीरन्तरिक्षे चरन्ति । याभिर्यासि दूत्यां सूर्यस्य । कामेन कृतः श्रव इच्छमानः ।  तै.ब्रा. . ..१ ।५

४५. अधि श्रवो माहिनं यज्जरित्र इतीयं वै माहिनं यज्ञश्रवो यजमानो जरिता यजमाना- यैवैतामाशिषमाशास्ते ।- .ब्रा. .३८

४६ एतैर्वै सामभिर्देवा इन्द्रमिंद्रियाय वीर्याय समश्यन् । तथो एवैतमृत्विजो यजमानमेतैरेव सामभिरिन्द्रियाय वीर्याय संश्यन्ति । संश्रवसे विश्रवसे सत्यश्रवसे श्रवस इति सामानि भवन्ति । एष्वेवैनमेतल्लोकेषु श्रावयन्ति । चतुर्निधनं भवति । चतस्रो वै दिशः ।---- .ब्रा.१२...२६

४७. दिवि श्रवांस्युत्तमानि धिष्व इति । चन्द्रमा वा ऽअस्य दिवि श्रव उत्तमम्। स ह्येनममुष्मिंल्लोके श्रावयति । श.ब्रा. ...४६

४८. अग्ने तव श्रवो वयः इति । धूमो वाऽअस्य श्रवो वयः । स ह्येनममुष्मिन् लोके श्रावयति ।---- .ब्रा ७...२९